पति-पत्नी के मध्य गृह कलह दूर करने हेतु उपाय

|

“मोहिनी माता, भूत पिता, भूत सिर वेताल। उड़ ऐं काली ‘नागिन’ को जा लाग। ऐसी जा के लाग कि ‘नागिन’ को लग जावै हमारी मुहब्बत की आग। न खड़े सुख, न लेटे सुख, न सोते सुख। सिन्दूर चढ़ाऊँ मंगलवार, कभी न छोड़े हमारा ख्याल। जब तक न देखे हमारा मुख, काया तड़प तड़प मर जाए।
Read More

|

मित्रो जैसे आप सब जानते हे आज कर कई लोगो के घर में नित्य कोइ न कोई क्लेश होते ही रहते हे और आये दिन पति पत्नी में जगडे होते रहते हे – चाहे परिवार कितना ही साधन संम्पन हो पर व्यर्थ हे जब अशांति हो और कई बार ऐसी अशांति से बच्चो पर भी
Read More